पाकिस्तान, चीन जरा संभलकर…अग्नि-5 तैयार है.. अग्नि-5 मिसाइल के बारें में 8 खास बातें…Everything about Agni-5 Missile

सुरक्षा के लिहाज से भारत ने आज एक बड़ा मुकाम हासिल कर लिया है. इंटरकॉन्टिनेंटल बैलेस्टिक मिसाइल अग्नि-5 का सफल परीक्षण आज ओडिशा के अब्दुल कलाम आईलैंड से सफलता पूर्वक किया गया. अब भारत उन देशों की जमात में खड़ा हो गया है जिनके पास इस श्रेणी के मिसाइल हैं. अग्नि-5 मिसाइल का ये चौथा परीक्षण था अब जल्द ही इसे भारतीय सेना में शामिल किया जा सकेगा. अग्नि- मिसाइल के बारें में 8 बेहद खास बातें

सौजन्य- http://www.indiatimes.com/


1.8 हजार किमी है मारक क्षमता !
एक महाद्वीप से दूसरे महाद्वीप तक मार करने में सक्षम इस मिसाइल की खासियत है इसकी रेंज. रिपोर्ट्स के मुताबिक अग्नि-5 की मारक क्षमता 5,500 किलोमीटर से ज्यादा है. लेकिन खुद चीन कहता है कि अग्नि-5 की क्षमता 8 हजार किलोमीटर तक की है.

2.आसानी से कहीं भी ले जाया जा सकता है

अग्नि-5 के दो परीक्षण कैनिस्टर पर भी हुए हैं, यानी कैनिस्टर में रखकर इस मिसाइल को सड़क या रेल के माध्यम से कहीं भी ले जाया जा सकता है. उसी कैनिस्टर से इसको छोड़ा भी जा सकता है. दुश्मन देश ये नहीं समझ सकेंगे कि कहां से अग्नि-5 उन्हें नेस्तेनाबूत करने आ रहा है.

सौजन्य- http://www.ndtv.com/

3.चीन-पाकिस्तान समेत पूरा एशिया और आधा यूरोप जद में
पड़ोसी देश पाकिस्तान जो अक्सर हमले की गीदड़ भभकी देता रहता है उसे अब सावधान हो जाने की जरूरत है. पाकिस्तान के साथ ही अब चीन भी अग्नि-5 मिसाइल की जद में है. भारत में बैठे बैठे ही परमाणु क्षमता वाले इस मिसाइल के इस्तेमाल से दुश्मन देश में विध्वंस मचाया जा सकता है.

4. 1 हजार किलो वारहेड ले जाने में सक्षम
अग्नि-5 मिसाइल 1 हजार किलो तक आयुध यानी वारहेड ले जाने में सक्षम है. साथ ही परमाणु हथियार को आसानी से इससे ले जाया जा सकता है. इस मिसाइल की लंबाई 17 मीटर वहीं वजन 50 टन है.


5.सटीक निशाना लगाना बेहद आसान
IRNS और माइक्रो नेविगेशन सिस्टम की वजह से सटीक निशाना लगाने में माहिर है अग्नि-5 मिसाइल, साथ ही एक साथ कई टारगेट पर निशाना लगाने की क्षमता भी इस मिसाइल की खासियत है, कई परमाणु वारहेड को इसके जरिए एक साथ छोड़ा जा सकता है.

6.DRDO को सलाम
इस मिसाइल को तैयार किया है डीआरडीओ ने, अग्नि श्रेणियों में अब तक 4 मिसाइल पहले ही आ चुके हैं. इस श्रेणी का ये पांचवा मिसाइल है. अग्नि-1 जो 700 किलोमीटर तक निशाना लगा सकता है, वहीं अग्नि-2, 2 हजार किलोमीटर तक, अग्नि-3, 2500 किलोमीटर तक वहीं अग्नि-4, साढ़े तीन हजार किलोमीटर तक के रेंज को भेद सकता है.

7.85 फीसदी स्वदेशी
अग्नि-5 की सबसे बड़ी खासियत है कि ये 85 फीसदी स्वदेशी है यानी इसमें इस्तेमाल होने वाली तकनीक से लेकर कल पुर्जे पर 85 फीसदी भारत के ही लोगों का दिमाग है या मेहनत है. जिससे हर एक भारतीय का सिर गर्व से ऊंचा उठ जाता है.

8.अग्नि-6 की तैयारी
भारत यहीं नहीं रुकने वाला, रिपोर्ट्स के मुताबिक अग्नि-6 पर भी काम शुरू हो चुका है. जल्द ही भारत को एक और जमीन से जमीन पर मार करने वाली लंबी दूरी की मिसाइल मिल सकती है. बताया जा रहा है कि इसकी मारक क्षमता 8000-1000 किलोमीटर है.

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *