कभी सुना है कैदियों की फ्रेशर्स पार्टी ! तिहाड़ जेल के बारें में 8 बेहद रोचक जानकारी

जेल जाने के बारें में सोचकर भी लोगों के हाथ पाव फूल जाते हैं. जेल की चारदीवारियों के बीच कैद रहना और बाहर की दुनिया से बिल्कुल कट ही जाना आखिर किसको अच्छा लगता है. ऐसे में साउथ एशिया के सबसे बड़े जेल तिहाड़ जेल में कैदी कैसे रहते होंगे ये सवाल तो आपके मन में भी उठता होगा. दिल्ली के इस जेल की कई खास बातें हैं, हालांकि तिहाड़ जेल को तिहाड़ आश्रम भी कहा जाता है आइए जानते हैं तिहाड़ जेल के बारें में 8 बेहद खास बातें

प्रतीकात्मक तस्वीर

1. 1957 में हुई थी तिहाड़ की स्थापना

देश के कुख्यात कैदियों से भरी इस जेल की स्थापना साल 1957 में हुई थी. 1966 में तिहाड़ जेल की जिम्मेदारी एनसीआर यानी राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र को सौंप दी गई.

2. दुनिया की सबसे बड़ी जेलों में से एक है तिहाड़

6,250 कैदिय़ों की क्षमता वाली ये जेल साउथ एशिया की सबसे बड़ी जेल है, करीब 400 एकड़ में फैला है ये जेल, जेल की क्षमता से करीब-करीब दोगुने कैदी यहां रखे गए हैं. इस जेल के भीतर 9 राष्ट्रीय कारागार हैं.

सौ- http://indianexpress.com/


3. किरण बेदी ने बदली थी जेल की सूरत

आज से करीब 23 साल पहले 1993 में भारत की पहली महिला आईपीएस किरण बेदी तिहाड़ जेल की इंस्पेक्टर जनरल बनाई गईं थी. किरण बेदी ने तिहाड़ जेल को तिहाड़ आश्रम में बदलकर रख दिया था, जेल में विपश्यना की शुरुआत बेदी ने ही किया था, कैदियों को एस एन गोयनका विपश्यना कराते थे. सबसे खास बात ये है कि उस वक्त जेल का माहौल ऐसा हो गया था कि जेल के एक कैदी ने IAS की परीक्षा निकाल ली थी.

सौजन्य- http://www.livemint.com/

4. हाईप्रोफाइल कैदियों को भी रखा जाता है
तिहाड़ में सहाराश्री सुब्रत राय और पूर्व केंद्रीय मंत्री ए राजा जैसे हाईप्रोफाइल कैदियों को भी ट्रायल के दौरान रखा जाता है. ए राजा को तिहाड़ में सोने के लिए 7 कंबल दिए गए थे, घोटाले में फंसे राजा वही आम टॉयलेट इस्तेमाल करते थे जिसे बाकी कैदी इस्तेमाल करते हैं.

5. कैदियों के भागने की घटना सुर्खियों में
बड़ी-बड़ी चारदीवारियों और भारी सुरक्षा वाले तिहाड़ जेल से कैदियों के भागने की कई घटनाएं सामने आई हैं. सीरियल किलर चार्ल्स शोभराज साल 1986 में यहां से भागने में कामयाब हो गया था, साल 2015 में भी दो कैदियों ने जेल के भीतर ही सुरंग खोद डाली थी और भागने में कामयाब भी हए थे. एक कैदी भागने के दौरान ही सीवर में फंस गया और पकड़ा गया वहीं दूसरा कैदी भागने में पूरी तरह से कामयाब रहा.

6. तिहाड़ के भीतर से ही चलते हैं कई सारे गैंग
तिहाड़ के भीतर भारी सुरक्षा व्यवस्था रहती हैं, लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी की इस जेल के अंदर से ही करीब 20 बड़े गैंग समेत 50 गैंग काम करते हैं. जेल में बंद बड़े बदमाशों के नाम पर ये गैंग चलता है. कोई छोटा-मोटा अपराधी भी अगर इस जेल में आता है तो इन गैंगस्टर्स के फेर में पड़कर बड़े अपराधियों में तब्दील हो जाता है.

7.कैदियों की फ्रेशर्स पार्टी !

तिहाड़ जेल के पुराने कैदी नए कैदियों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपने आते हैं, फ्रेशर्स पार्टी भी उनमें से ही एक तरीका है जिसमें जेल में आए नए कैदियों को पुराने कैदी “फ्रेशर्स पार्टी” देते हैं साथ ही उन्हें सुरक्षा का लालच भी देते हैं. नए कैदियों को परेशान करने की भी खबरें आती हैं.

सौजन्य- http://post.jagran.com/


8. तिहाड़ जेल का प्रोडक्ट ब्रांड भी है

तिहाड़ जेल के कैदियों का अपना एक यूनिक ब्रांड भी है जिसके तहत कैदियों के द्वारा बनाई गई चीजों को बेचा जाता है इस ब्रांड का नाम है TJ’s है. इस ब्रांड के अंदर अचार, खाने पीने की तमाम चीजें बनाई और बेची जाती है. साथ ही कपड़े, बैग, कैंडल और हैंडलूम की कई और चीजें इस ब्रांड के अंदर तैयार की जाती हैं.

ये भी जानें: एक क्लिक के जरिए सुनिए दुनिया के हर देश के हर शहर का Radio, यहां जानिए पूरा ब्योरा

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *