नहीं रहे पूर्व CM एनडी तिवारी, कभी PM पद के दावेदार थें रंगीन मिजाज तिवारी

PERSONALITIES

पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्‍त तिवारी का 93 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है. दिल्‍ली के साकेत स्थित मैक्‍स अस्‍पताल में उन्‍होंने आखिरी सांस ली. वे लंबे समय से बीमार चल रहे थे. पिछले एक साल से उनकी तबीयत काफी नाजुक थी और पिछले कुछ महीनों से तो तिवारी अस्‍पताल में ही भर्ती थे. वे तीन बार उत्‍तर प्रदेश और एक बार उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री रहे. इसके अलावा उन्‍होंने राज्‍यपाल का पद भी संभाला.

राजनीति में जब-जब रंगीन मिजाजी का नाम लिया जाता है, नारायण दत्त तिवारी का नाम सबसे ऊपर आता है. 3 बार उत्तर प्रदेश और 1 बार उत्तराखंड के सीएम रह चुके 93 साल के एनडी तिवारी की हालत गंभीर थी। एनडी तिवारी और विवादों का चोली दामन का साथ रहा है. ऐसे में आइए एक नजर डालते हैं उनकी परी जिंदगी और करियर पर:

एनडी तिवारी की दूसरी शादी (फोटो: ट्विटर)

नारायण दत्त तिवारी का जन्म साल 1925 में उत्तराखंड के नैनीताल मं हुआ था. उन्होंने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से राजनीतिशास्त्र में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है. तिवारी का राजनीतिक करियर भी इसी यूनिवर्सिटी से शुरू हुआ था. साल 1947 में वो इलाहाबाद यूनिवर्सिटी छात्रसंघ के अध्यक्ष चुने गए थे.

राजनीतिक सफर की खास बातें

– उत्तर प्रदेश के पहले ही विधानसभा चुनाव (1951-52) में सोशलिस्ट पार्टी की तरफ से नैनीताल सीट से चुनाव जीते
– साल 1963 में कांग्रेस में शामिल हुए
– साल 1976 में पहली बार प्रदेश के मुख्यमंत्री बने, इसके बाद वो तीन बार यूपी के सीएम बने
– राजीव गांधी सरकार में 1986-87 में वो केंद्रीय विदेश मंत्री रहे
– साल 2002 में जब राज्य बनात तो वो प्रदेश के सीएम बनाए गए
– साल 2007 से लेकर 2009 तक वो आंध्र प्रदेश के राज्यपाल के पद पर रहे.
– मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो साल 1990 में वो पीएम पद के दावेदार भी रह चुके हैं.

एनडी तिवारी और विवादों का चोली दामन का साथ

एनडी तिवारी जब आंध्र प्रदेश के राज्यपाल थे तब उनकी एक सीडी सामने आई थी. इस सीडी में वो 3 महिलाओं संग आपत्तिजनक हालत में नजर आ रहे थें. सीडी को रिजनल न्यज चैनल पर टेलीकास्ट किया गया था. ऐसे में उन्हें मंत्रीपद से इस्तीफा देना पड़ा था.

89 की उम्र में दूसरी शादी, बेटा

मुश्किलें यहीं खत्म नहीं हुईं. वो वापस अपनी कर्मभमि यूपी और उत्तराखंड आ चुके थे. तभी एक उज्ज्वला शर्मा (अब तिवारी की पत्नी हैं) नाम की महिला सामने आई और दावा किया कि वो एनडी तिवारी की पत्नी हैं और उनका बेटा रोहित है. तिवारी इस बात को मानने के लिए बिल्कुल तैयार नहीं दिख रहे ते. ऐसे में मामला कोर्ट में पहुंचा और कोर्ट ने DNA जांच के आदेश दिए.

दूध का दूध, पानी का पानी

DNA जांच में साबित हो गया कि रोहित उनका बेटा है और उज्ज्वला शर्मा उनकी पत्नी. ऐसे में नारायण दत्त तिवारी ने साल 2014 में ये स्वीकार किया कि वो एक 34 साल के युवक के पिता हैं. एक बार फिर तिवारी और उज्ज्वला की शादी पूरे धूमधाम से हुई. आखिर, 6 साल चली कानूनी लड़ाई के बाद शेखर की माता उज्ज्वला को इंसाफ मिला था. नारायण दत्त तिवारी की पहली पत्नी सुशीला तिवारी का निधन 1993 में हुआ था.

ये भी पढ़ें: अपनी अजब प्राकृतिक शांति के लिए प्रसिद्ध साइलैंट वैली National Park

Leave a Reply