बर्फ की मोटी चादर से घिरे अंटार्कटिका में स्थित भारतीय अनुसंधान केंद्र भारती के बारे में खास बाते

THE NATION

भारती अंटार्कटिका में भारत द्वारा स्थापित अनुसन्धान केंद्र का नाम है। यह अंटार्कटिका में भारत द्वारा स्थापित तीसरा अनुसन्धान केंद्र है। इसके पूर्व दक्षिण गंगोत्री और मैत्री अनुसन्धान केंद्र स्थापित किये जा चुके हैं। वर्तमान बर्फ में दव जाने के कारण दक्षिण गंगोत्री को सप्लाई बेस के रूप में प्रयुक्त हो रहा है। जब कि मैत्री अनुसन्धान केंद्र चालू है। मैत्री और भारती अनुसन्धान केंद्र स्थायी रूप से काम कर रहे हैं।


इस अनुसंधान केंद्र की स्थापना 18/03/2012 में हुई थी। पूर्वी अंटार्कटिका की लार्सेमन हिल्स और पेनीसूलास हिल्स के बीच पथरीली भूमि पर स्थित है।यह स्थल प्राकृतिक रूप से एक ग्रेनाइट पहाड़ी है। जो समुद्र तल से लगभग 90 मीटर ऊँचा टावर जैसा दिखाई पड़ता है। यह अनुसंधान केंद्र मैत्री अनुसंधान केन्द्र से लगभग 3000 किलोमीटर दूर स्थित है। ऑस्ट्रेलिया, एशिया, अफ्रीका, दक्षिण अमेरिका और भारत एक साथ मिलकर इस सुपर-महाद्वीप का एक हिस्सा बन गए हैं। भारत के पूर्वी तट के गोंडवानालैंड से अंटार्टिका के तट से तुलना की जा सकती है।

अनुसंधान का विषय
अंटार्टिका में भारत की नदियों के बेसिन की चट्टानों और खनिज पदार्थों से लार्समैन पहाड़ी की चट्टानों और खनिज पदार्थों का तुलनात्मक अध्ययन। ध्रुवीय विज्ञान और क्रयोसफेरे(cryosphere),( जो अंटार्कटिका, आर्कटिक) में अनुसंधान गतिविधियां और हिमालय के ग्लेशियरों से तुलनात्मक अध्ययन शामिल।

अंटार्कटिका में भारतीय वन्य जीव संस्थान के विज्ञानियों ने पेंग्विन (एडली) के 800 घोंसलों वाली नई ब्रीडिंग कॉलोनी खोज निकाली है।

Leave a Reply