Travel Time: जन्नत का एहसास कराने वाले छोटे मगर घूमने के लिए बेस्ट जगहों में शुमार हैं भारत के यह शहर

TRAVEL

ट्रैवलिंग शायद हर किसी का शौक होता है। कुछ लोग दुनिया घूमना चाहते हैं, तो किसी के लिए देश घूमना ही पूरा नहीं पड़ता। यह तो सच है कि यदि हम देश भर में ही घूम लें तो दुनिया भर का मजा यहीं आ जाएगा। जहाँ तक आपकी डेस्टीनेशन का सवाल है, तो भारत में कई ऐसी जगहें भी है, जो बेहद शानदार हैं। ऊंचे पहाड़ों से लेकर गहरी नदियों तक और हसीन नजारों से लेकर रोमांटिक बीच तक, यहाँ आपको कई रंग देखने को मिलेंगे। आज हम आपको बताएंगे भारत के 10 छोटे शहरों के बारे में जो इतने खूबसूरत हैं कि आपको यहीं जन्नत का एहसास हो जाएगा…

कालिमपॉन्ग, पश्चिम बंगाल

हिमालय की वादियों में अपना घोंसला बनाए 1250 मीटर की ऊंचाई पर बसा कालिमपॉन्ग, पश्चिम बंगाल का हिल स्टेशन है। इस छोटे से शहर की खूबसूरती बसी है यहाँ के फूलों की कैरियों में। इस जगह सबसें ऊंचे प्वाइंट, दुरपिन दारा, से आप तीस्ता नदी का शानदार नजारा देख सकते हैं।

मंडावा, राजस्थान

राजस्थान के झुंझुनू जिले में बसा एक छोटा सा शहर मंडावा, अपने भव्य महलों और हवेलियों के लिए मशहूर है। पुराने समय में सिल्क रूट पर पड़ने वाले इस शहर में रईस व्यापारी आकर रूका करते थे। यहां पर बने भव्य किले और महलों में लगी तस्वीरों में घर्म, संस्कृति और इतिहास झलकता है। मंडावा महल यहां का सबसे बड़ा आकर्षण हैं।

धनुषकोड़ी, तमिलनाडु

बेंगलुरू से 620 किलोमीटर दूर बसा यह भूतिया शहर, धनुषकोड़ी, तमिल नाडु के पंबन द्वीप के दक्षिण पर बसा है। करीब 50 साल पहले, तूफान के चलते इस द्वीप पर सिर्फ खंडर ही बचा है। शांत वातावरण और भारतीय महासागर और बंगाल की खाड़ी के मिलन का अद्भुत नजारा आपका मन मोह गा। इसके अलावा धनुषकोड़ी से कई पौराणिक और स्थानीय कहानियों का भी वास्ता है।

लैंडूर, देहरादून

शहरी भीड़भाड़ से मीलों दूर, लैंडूर वीकेंड के लिए एक बेहतरीन विकल्प हो सकता है। पहाड़ों के घुमाव के बीच बसी इस जगह में आपको सुंदर देवदार और लाल फूल देखने को मिलेंगे। इसके अलावा लैंडूर के बाजार और कैप्टन यंग का घर भी बड़ा आकर्षण हैं। कैप्टन यंग ने मसूरी की खोज की थी।

चिकमैंग्लुर, कर्नाटक

प्रकृति की गोद में हरे-भरे जंगलों और सुंदर पहाड़ों के नजारे अपने भीतर समेटे है चिकमैंग्लुर। कॉफी के बड़े बगीचों से लेकर ट्रेकिंग तक, आप शांत और एडवेंचर दोनों का ही मजा ले सकते हैं। भारत सरकार के कॉफी यात्रा म्युजियम का भी मजा लिया जा सकता है, जहां कॉफी का इतिहास कैद है। यहां के लोग काफी मिलनसार है कि हो सकता है कि आपको किसी के घर रहने का भी मजा मिल सकता है।

खजियार, हिमाचल प्रदेश

हिमाचल के चंबा जिले में बसा छोटा सा शहर खजियार, भारत का स्विट्जरलैंड कहलाता है। डलहाउजी से 22 किलोमीटर दूर बसे इस हिल स्टेशन की खूबसूरती यहां के जंगल और मैदानों में बसती है। अगर आप यहां जा रहे हैं, तो जॉर्बिंग को मजा जरूर लें।

ओर्छा, मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश में बेटवा नदी के किनारे बसा ओर्छा शहर अपने 16वीं और 17वीं सदी के मंदिर और महलों के लिए मशहूर है। अगर आपको इतिहास और पुरातत्व में दिलचस्पी है, तो ओर्छा आपके लिए जन्नत ही है। यहां का राय प्रवीन महल, एक बहुत बड़ा और भव्य कलाकृति है।

ड्रास, जम्मू कश्मीर

कार्गिल से 60 किलोमीटर बसा ड्रास, भारत का सबसे ठंडा रिहायशी इलाका है। यहां का तापमान शून्य से 45 डिग्री नीचे रहता है। ‘गेटवे ऑफ लद्दाख’ के नाम से मशहूर ड्रास समुद्र से लगभग 11 हजार फीट की ऊंचाई पर है। यहाँ पर जाएंगे, तो आपको एक चीज और समझ आएगी कि हमारे सैनिक क्या-क्या झेलते हैं। मुश्को घाटी, द्रौपदी कुंड और शालीमार गार्डन यहां के प्रमुख आकर्षण हैं।

जुनागढ़, गुजरात

गुजरात में इतिहास की धरोहर समेटे हुए जुनागढ़ धार्मिक एकता का प्रतीक है। हिन्दू मंदिर, मस्जिद और बौद्ध स्मारकों के कारण इस जगह को देखने का एक और कारण बनता है। इसके अलावा एशियाई शेरों का घर गिर नैश्नल पार्क यहां की खासियत है। प्रकृतिक खूबसूरती के लिए इस जगह को एक बार देखना बनता है।

आनंदपुर साहिब, पंजाब

सिखों की महत्वपूर्ण तीर्थस्थली आनंदपुर साहिब को ‘खालसा’ की जन्मस्थल के रूप में जाना जाता है। अगर आपको सिख धर्म के बारे में जानना है, तो जरा एक बार यहां के विरासत-ए-खालसा म्युजियम जरूर हो कर आएं। आपको सिखों का पूरा इतिहास मिल जाएगा। इसके अलावा यहां, इस पवित्र नगरी में प्रकृतिक खूबसूरती की कोई कमी नहीं है। तो जनाब, आपने कहाँ जाने का प्लान बनाया है??

Leave a Reply