2 साल र‍ि‍सर्च के बाद सामने आया 4,500 साल पुराने कंकाल का सच

FACTS

कुछ समय पहले हर‍ियाणा के राखीगड़ी में पुरातत्वविदों को खुदाई के दौरान एक युवा जोड़े का कंकाल मिला था। र‍िसर्च में सामने आया था क‍ि जिस तरह से युगल के कंकाल दफन मिले हैं उससे साफ है कि दोनों के बीच प्रेम था। ये सिर्फ संभावना है। जिन लोगों ने दोनों को दफनाया होगा, वे चाहते थे कि दोनों के बीच मरने के बाद भी प्यार बना रहे।


हड़प्पाकालीन सभ्यता का 4,500 साल पुराना
पुणे के डेक्कन कॉलेज डीम्ड विश्वविद्यालय के पुरातत्वविदों को खुदाई के दौरान एक युवा जोड़े का कंकाल मिला था। मौत के वक्त दोनों की उम्र लगभग 21 से 35 साल के बीच रही होगी। खुदाई के दौरान दोनों एक ही कब्र में मिले और पुरुष कंकाल का चेहरा महिला की तरफ था। यह कंकाल हर‍ियाणा के राखीगढ़ी में हड़प्पाकालीन सभ्यता का 4,500 साल पुराना बताया जा रहा है।


2016 में म‍िला था यह कंकाल
यह कंकाल 2016 में म‍िला था लेक‍िन इस पर र‍िसर्च चल रही थी। र‍िसर्च में यह पता लगाया जा रहा था क‍ि इस युगल को एक साथ दफनाने के मायने क्या हैं। दो साल र‍िसर्च के बाद अब पुरातत्वव‍िद कुछ कहने की स्थि‍ति‍ में पहुंचे हैं।


दोनों के बीच प्रेम था
पुरातत्वविदों के अनुसार, जिस तरह से युगल के कंकाल दफन मिले हैं उससे साफ है कि दोनों के बीच प्रेम था। ये सिर्फ संभावना है। जिन लोगों ने दोनों को दफनाया होगा, वे चाहते थे कि दोनों के बीच मरने के बाद भी प्यार बना रहे। उन्होंने कहा कि, कपल को दफनाने का ऐसा मामला प्राचीन सभ्यताओं में दुर्लभ नहीं है। युगल की कब्र में मिट्टी के बर्तनों और एक झालरवाली अकीक की गुरियां भी मिली हैं, जो शायद महिला की ज्वैलरी का हिस्सा रही होंगी।


हड़प्पा सभ्यता से संबंधित कई कब्रिस्तानों की खुदाई
यह पहली बार है जब हड़प्पा सभ्यता की खुदाई के दौरान किसी युगल की कब्र मिली है। हैरानी की बात यह है कि अब तक हड़प्पा सभ्यता से संबंधित कई कब्रिस्तानों की खुदाई की जा चुकी है, लेकिन आज तक किसी भी युगल के इस तरह दफनाने का मामला सामने नहीं आया था।


जोड़े को एक ही समय में दफनाया गया
हरियाणा का राखीगढ़ी दिल्ली से 150 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम में स्थित है। पुरातत्वविदों ने बताया खुदाई के दौरान मिले साक्ष्यों से पता चलता है कि जोड़े को एक ही समय में दफनाया गया है क्योंकि ऐसा कोई साक्ष्य नहीं मिला है कि पहले किसी एक को, फिर दूसरे को दफनाया गया हो।


करीब 62 कब्रों की खुदाई की
युवा जोड़े का कंकाल मिलना पुरातत्वविदों की रूचि को बढ़ा रहा है। पुणे मानद विश्वविद्यालय ने इस खोज की पूरी जानकारी अंतर्राष्ट्रीय जर्नल एसीबी जर्नल ऑफ एनाटॉमी एंड सेल बायोलोजी में प्रकाशित किया है। इस रिपोर्ट में यह भी लिखा गया है कि कंकाल का मुंह, हाथ और पैर सभी एक समान एक समय के हैं। इससे पता चल रहा है कि दोनों को जवानी के समय एक साथ दफनाया गया होगा। पुरातत्वविदों ने राखीगढ़ी में करीब 62 कब्रों की खुदाई की है।


युगलों के दफनाने पर चर्चा
खुदाई और विश्लेषण यूनिवर्सिटी के पुरातत्व विभाग और इंस्टीट्यूट ऑफ फारेंस‍िक साइंस, सोल नेशनल यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ मेडिसिन द्वारा किया गया। इस पूरी खुदाई की जानकारी देने वाले वसंत शिंदे ने बताया कि भारतीय पुरातत्वविदों ने मिलकर युगलों के दफनाने पर चर्चा की। इससे पूर्व लोथल में खोजे गए एक हड़प्पा युगल कब्र को माना गया था कि वह विधवा की थी और उसे अपने पति की मौत के बाद दफनाया गया था।

Leave a Reply