क्यों आज भी बेटी को जिस्म के बाज़ार ‘Prostitution’ में धकेलने को परंपरा कहते हैं?

MORE

वैसे तो भारत में कहने को महिलाओं की स्थिती मज़बूत हुई है, वो शसक्त बनी हैं लेकिन इसी बात का हम दूसरा पहलू देखें तो महिलाओं की हालत पहले से भी ज्यादा बदतर हो गई है। भारत में आज भी कई राज्यों में जिस्म का धंधा prostitution सरेआम होता है, घर की बेटियां इस धंधे में धकेली जाती हैं और इन्हें धकलने वाले और कोई नहीं बल्कि इनके ही परिवार वाले हैं।

Kuni Takahashi Photography

…क्योंकि prostitution में कमाई भी तो उतनी ही ज्यादा होगी

पूरे भारत की बात छोड़ अगर हम अकेले मध्यप्रदेश की ही बात करें तो मध्यप्रदेश के मालवा के नीमच, मन्दसौर और रतलाम ज़िले में कई गांव ऐसे हैं, जहां अगर बेटी किसी मर्द के साथ सेक्स करती है, तो भी मां बाप को इससे कोई ऐतराज नहीं होता। बल्कि बेटी के जिस्म के प्रति लोगों की जितनी दीवानगी बढ़ती है उतना ही उनकी खुशियों का दायरा भी बढ़ने लगता है …क्योंकि कमाई भी तो उतनी ही ज्यादा होगी।

prostitution के बारे में बात करने में शर्म आती

हमारे सभ्य समाज के लोगों को वेश्यावृति prostitution के बारे में बात करने में शर्म आती है क्योंकि इसे वो सही नहीं मानते, घिनौना काम मानते हैं, लेकिन ये ही लोग दिन के उजाले से निकलते ही रात के अंधियारे में इन इलाकों की ख़ाक छानना शुरू कर देते हैं। ये बात भले ही आम लोगों के लिए चौंकाने वाली हो, लेकिन मालवा अंचल में 200 वर्षों से बेटी को सेक्स बाज़ार में धकेलने की परंपरा चली आ रही है। दरअसल इन गांवों में रहने वाले ‘बांछड़ा समुदाय’ के लिए बेटी के जिस्म का सौदा आजीविका का एकमात्र ज़रिया बना हुआ है, यहां ‘वेश्यावृती’ एक परंपरा है। आइए बताते हैं इस समुदाय के बारे में..

पहली बेटी को जिस्मफरोशी करनी ही पड़ती है

डेरों में रहने वाले बांछड़ा समुदाय में प्रथा के अनुसार घर में जन्म लेने वाली पहली बेटी को जिस्मफरोशी करनी ही पड़ती है, वो इनकी कमाई का मुख्य ज़रिया है। मालवा के करीब 70 गांवों में जिस्मफरोशी की करीब 250 मंडियां हैं, जहां खुलेआम परिवार के सदस्य ही बेटी के जिस्म का सौदा करते हैं।

मां-बाप ग्राहक का इंतज़ार करते हैं

आपको जानकर हैरानी होगी लेकिन इस समुदाय में बेटी के जिस्म के लिए मां-बाप ग्राहक का इंतज़ार करते हैं सौदा होने के बाद बेटियां अपने परिजनों के सामने ही खुलेआम सेक्स करती हैं। आश्चर्य की बात यह है कि परिवार में सामूहिक रूप से ग्राहक का इंतज़ार होता है, जिसको सेक्स के लिए आदमी पहले मिलता है उसकी कीमत परिवार में सबसे ज्यादा होती है … वेश्यावृति से ज्यादा इन लोगों की सोच घीनौनी है।

वैसे तो भारतीय समाज में आज भी बेटी को बोझ समझा जाता हो, लेकिन बांछड़ा समुदाय में बेटी पैदा होने पर जश्न मनाया जाता है। बेटी के जन्म की खूब धूम होती है क्योंकि ये बेटी बड़ी होकर कमाई का ज़रिया बनती है.. चलो कहीं तो बेटियां आगे हैं (शर्मनाक)। इस समुदाय में यदि कोई लड़का शादी करना चाहे तो उसे दहेज़ में 15 लाख रुपए देना अनिवार्य है।

बांछड़ा समुदाय के अधिकांश लड़के कुंवारे

इस वजह से बांछड़ा समुदाय के अधिकांश लड़के कुंवारे ही रह जाते हैं। यहां पर ये धंधा या कहें कि गंदगी इतनी फैल चुकी है कि बाछड़ा समाज देह मंडी के रूप में कुख्यात है, जो वेश्यावृत्ति के दूसरे ठिकानों की तुलना में इस मायने में अनूठे हैं, कि यहां सदियों से लोग अपनी ही बेटियों को इस काम में लगाए हुए हैं। इनके लिए ज्यादा बेटियों का मतलब है, ज्यादा ग्राहक!

Leave a Reply