जानिए आखिर क्यों IAS टॉप करने वाले शाह फैसल ने दिया इस्तीफा, कौन है फैसल?

PEOPLE

भारतीय प्रशासनिक सेवा में 2010 में देशभर में शीर्ष पर रहे शाह फैसल ने बुधवार को भारतीय मुसलमानों को हाशिये पर धकेलने का आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने कश्मीर में कथित हत्याओं के खिलाफ आईएएस से इस्तीफा देने का फैसला किया है। फैसल ने फेसबुक पर एक पोस्ट में यह घोषणा की।

शाह फैसल (जन्म 17 मई 1983) जम्मू कश्मीर राज्य से एक सिविल सर्वेंट हैं। 2009 में वे भारतीय सिविल सेवा परीक्षा टॉप करने वाले पहले कश्मीरी थे और खुले मेधा के द्वारा भारतीय प्रशासनिक सेवा में चयनित पहले कश्मीरी थे।


उन्होंने लिखा, “कश्मीर में लगातार हत्याओं के मामलों और केंद्र सरकार की ओर से कोई गंभीर प्रयास नहीं होने के चलते, हिंदूवादी ताकतों द्वारा करीब 20 करोड़ भारतीय मुस्लिमों को हाशिये पर डालने की वजह से उनके दोयम दर्जे का हो जाने, जम्मू कश्मीर राज्य की विशेष पहचान पर कपटपूर्ण हमलों और भारत में अति-राष्ट्रवाद के नाम पर असहिष्णुता और नफरत की बढ़ती संस्कृति के विरुद्ध मैंने आईएएस से इस्तीफे का फैसला किया है।”

सूत्रों ने बताया कि शाह फैसल की नेशनल कॉन्फ्रेंस में शामिल होने और चुनाव लड़ने को लेकर सीट पर चर्चा चल रही है। इस पर जल्द ही अंतिम निर्णय लिया जा सकता है।

इस बीच, जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर फैसल के इस्तीफा देने के निर्णय का स्वागत किया है। उमर ने लिखा, ‘नौकरशाही का नुकसान राजनीति का फायदा।’ एक अन्य ट्वीट में उमर ने लिखा, ‘वास्तव में हम उनका (फैसल) राजनीति में स्वागत करते हैं। उनके सियासी भविष्य के बारे में जल्द ही ऐलान किया जाएगा।’ उनके इस ट्वीट को शाह फैसले के नेशनल कॉन्फ्रेंस ज्वॉइन करने का संकेत माना जा रहा है।

शाह फैसल ने भारत और पाकिस्तान के बीच रिश्तों के बारे में काफी कुछ बहुत ही सुक्ष्म तरीके से कहा है जिसे काफी बार सराहा गया है। 2016 में कश्मीर में अशांति के दौरान शाह फैसल ने राष्ट्रीय मीडिया को बुरहान वाणी से तुलना करने के लिए उनके तस्वीर का इस्तमाल करने को मना किया। कई कश्मीरियों उन्हें भारतीय नौकरशाही का ‘पोस्टर बॉय ‘ कहते हैं।

पिछले साल जुलाई में फैसल शाह ने एक विवादित ट्वीट किया था। जिसके बाद वो मुश्किलों में फंस गए थे। शाह ने रेप की बढ़ती घटनाओं पर ट्वीट किया था। उन्होंने लिखा था कि ‘पितृसत्ता + जनसंख्या + निरक्षरता + शराब + पोर्न + टेक्नालॉजी + अराजकता = रेपिस्तान!’

Leave a Reply