दुनिया को चौंकाने की तैयारी में जापान, धीरे-धीरे कर रहा यह तैयारी

Uncategorized

वो कहते हैं न, खोजने वाले लोग कचरे में भी न सोना खोज लाते हैं। यह कहावत जापान की राजधानी टोक्यो में हम साकार होते देखने वाले हैं। हमारा दावा है अगले साल 2020 में जापान की राजधानी टोक्यो में ओलंपिक खेलों के आगाज़ को देखकर दुनिया जापानी तकनीक की कायल होने से खुद को रोक नहीं पाएगी। दरअसल तकनीक की दुनिया का बाजीगर जापान जो तैयारियां कर रहा है उसके बारे में जानकर आपको न केवल अचरज होगा बल्कि इन तैयारियों के बारे में जानने की आपकी उत्सुकता भी लगातार बढ़ती जाएगी।

  • इस ओलंपिक में खेलों के आयोजन के दौरान सौ फीसदी रिनियूएबल एनर्जी यानी नवीकरणीय ऊर्जा के उपयोग का लक्ष्य तय किया गया है। मतलब इस दौरान विंड और सोलर एनर्जी से स्टेडियम के साथ एथलीट्स विलेज को रोशन किया जाएगा। दुनिया को इको फ्रैंडली बनने का संदेश देने वाले इस महान आयोजन से पर्यावरण प्रेमी भी खासे खुश हैं।
  • जी हां एथलीट्स को दिये जाने वाले मेडल्स अनयूज़्ड मोबाइल फोन में से निकलकर आएंगे। दरअसल मोबाइल फोन्स में कुछ मात्रा में सोना-चांदी के साथ कॉपर यूज़ होता है। इनको ही निकालकर मेडल्स बनाए जाएंगे। आपको बता दें, मेडल्स बनाने के लिए कई टन फोन और अन्य उपकरण जैसे लैपटॉप आदि का कलेक्शन किया गया है। काबिल-ए-गौर है कि खेलों में उपयोग होने वाले 99% अन्य उत्पाद या तो रीयूज़ होंगे या फिर रीसाइकिल किए जाएंगे।)
  • दोस्तों यहां की टैक्सियां भी ओलंपिक देखने आने वालों के लिए खास होने वालीं हैं। बगैर ड्राइवर वाली इस ऑटोमेटिक टैक्सी की राइड का लुत्फ पैसेंजर्स स्मार्ट फोन्स से पैमेंट करके उठा सकेंगे। इन टैक्सियों की लोकप्रियता का आलम ये है कि अब तक बड़ी तादाद में लोग इन टैक्सियों की टेस्ट राइड के लिए अप्लाइ कर चुके हैं।
  • दुनिया के सामने जापान सोलर एनर्जी से जुड़े इन्वेंशन्स के मामले में मिसाल बनकर उभरा है। खेलगांव में चलने वाली टेक्सियों के लिए सौर ऊर्जा देने वाली खास सड़कों का खाका तैयार किया गया है। इन सड़कों पर सोलर पैनल्स लगाए गए हैं जिनसे वाहन चल सकेंगे।
  • यहां रोबोट्स इंसान की ज़ुबान बोलते नज़र आएंगे। आयोजकों ने यहां पहुंचने वाले विदेशियों को भाषाई परेशानी न हो इसलिए खास रोबोट्स की खेप तैयार की है। ये रोबोट्स न केवल भाषाई परेशानी से निपटने में टूरिस्ट्स की मदद करेंगे बल्कि शारीरिक रूप से अक्षम लोगों के बैग उठाने से लेकर तमाम तीमारदारी तक के लिए हाज़िर रहेंगे।

Leave a Reply